Tuesday, December 13, 2011

जीना इसी का नाम हैं



मौत के काली अंधी हाथों ने जब
चुरालिया मेरे जीवन का सपना 
बेबस लाचार तनहा  खड़ी थी मैं 
ज़िन्दगी की चौराहों पर ||

एक पल में जैसे मैंने सब
हैं खो दिए; जीवन के रंगीन 
सपने हो गए बेरंग; जीने की 
आस ही दिल से छूट सी गयी...

भटकती रही मैं मन की 
गलियों में, ढूँढ़ते रहे जवाब,
हज़ारों सवाल थे जगे हुए -
मेरे ही साथ ऐसे क्यों हुए ???

बेसहारा, बेबस घूम रही थी मैं,
जब अचानक दिखी एक तिनका
रौशनी की; उसके सहारे चली मैं;
और मिल गयी उजाले की सौबत...

देखा तो दिल के अन्दर ही से
मेरे, निकल रहे थे वे किरणों की 
तरंग; जैसे मुझ से वह कह रही  हैं -
आगे बढ़ना हैं तुम्हे जीवन की ओर!

7 comments:

  1. You write so well in Hindi as well. I am truly inspired by your work Nisha.

    Hope I can pen something as lovely as this...

    ReplyDelete
  2. Thank you Saru! I am very happy to know your opinion. Since Hindi is not my mother tongue, when appreciation comes for a piece written in Hindi, I am doubly thrilled!!!
    Thanks a lot!

    ReplyDelete
  3. Dear Nisha,
    I'm honored to nominate your name for a blooger award.
    Please visit my blog for details.
    Af'ly
    ..LeoPaw

    ReplyDelete
  4. Dear Nisha,
    I'm honored to nominate your name for a blogger award.
    Please visit my blog for details.
    Af'ly
    ..LeoPaw

    ReplyDelete
  5. Its been some years that I spent time to read Hindi.. and I loved it.

    Durlov
    http://murphotography.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. Thank you Leo. Shall surely do that.

    ReplyDelete
  7. Thank you Durlov Baruah! Glad you liked it..

    ReplyDelete